मनोरंजन

संयुक्त राष्ट्र सचिवालय ने एक बयान में कहा कि अभिनेता रणदीप हुड्डा को जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण सम्मेलन (सीएमएस) के राजदूत के पद से हटा दिया गया है। यह कदम एक पुराने वीडियो के वायरल होने के बाद उठाया गया है।

नयी दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र सचिवालय ने एक बयान में कहा कि अभिनेता रणदीप हुड्डा को जंगली जानवरों की प्रवासी प्रजातियों के संरक्षण सम्मेलन (सीएमएस) के राजदूत के पद से हटा दिया गया है। यह कदम एक पुराने वीडियो के वायरल होने के बाद उठाया गया है, जिसमें अभिनेता को उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती का मजाक बनाते हुए देखा गया था। इस वीडियो को कई लोगों ने “जातिवादी और सेक्सिस्ट” कहा था। यह वीडियो 2012 में मीडिया हाउस इंडिया टुडे द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम का है।

रणदीप हुड्डा को लगा बड़ा झटका

सीएमएस सचिवालय ने कहा कि उन्हें  हाल ही में एक वीडियो क्लिप के बारे में पता चला और वीडियो में की गई टिप्पणियों को “आपत्तिजनक” पाया। इस कारण उन्हें सीएमएस सचिवालय या संयुक्त राष्ट्र ने पद से हटा दिया है। इसमें यह भी कहा गया है कि जब हुड्डा को फरवरी 2020 में प्रवासी प्रजातियों के लिए सीएमएस एंबेसडर के रूप में नियुक्त किया गया था, उस समय संगठन 2012 के वीडियो से अनजान था।

इसे भी पढ़ें: भारतीय सिनेमा को विश्वपटल पर पहुंचाने वाले पहले फिल्म निर्माता थे महबूब खान 

सीएमएस ने स्पष्ट किया कि, जिसे बॉन कन्वेंशन के रूप में भी जाना जाता है, संयुक्त राष्ट्र की एक संधि है और संयुक्त राष्ट्र सचिवालय और संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम दोनों से अलग है। सीएमएस ही हुड्डा की एकमात्र इकाई थी, जिसके लिए उन्होंने ब्रांड एंबेसडर के रूप में काम किया। अभिनेता को ऑस्ट्रेलियाई खोजकर्ता और पर्यावरणविद् सच्चा डेंच और ब्रिटिश जीवविज्ञानी इयान रेडमंड ओबीई के साथ राजदूत के रूप में नामित किया गया था और उन्हें 2023 में अपने कर्तव्यों का पालन करना था। 

 रणदीप हुड्डा से जुड़ी वीडियो हुई सोशल मीडिया पर वायरल

अभिनेता रणदीप हुड्डा की सोशल मीडिया पर नौ वर्ष पुराने एक वीडियो के लिए आलोचना की गई है जिसमें वह बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणियां करते नजर आते हैं।
एक मीडिया घराने द्वारा 2012 में आयोजित एक कार्यक्रम का यह 43 सेकेंड का वीडियो है जिसे ट्विटर पर एक व्यक्ति ने साझा किया।
इस वीडियो में हुड्डा ने एक चुटकुला सुनाया जिसे जातिवादी एवं कामुक बताया जा रहा है और वह दर्शकों के बीच अकेले हंस रहे हैं।
नौ वर्ष बाद सोशल मीडिया पर इसकी आलोचना हो रही है कि ‘‘राधे’’ के अभिनेता ने एक शक्तिशाली महिला नेता और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ टिप्पणियां की हैं।

इसे भी पढ़ें: करण पटेल से लेकर मोहित रैना तक, ये हैं टीवी की दुनिया के सबसे ज्यादा फीस लेने वाले सितारे 

वीडियो साझा करने वाले व्यक्ति ने कहा, ‘‘क्या इससे यह पता नहीं चलता है कि यह समाज कितना जातिवादी एवं लैंगिकवादी है खासकर एक दलित महिला के खिलाफ।’’
माकपा पोलितब्यूरो की नेता कविता कृष्णन ने भी वीडियो पर टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि हुड्डा की टिप्पणी ‘‘जातिवादी, नारी विरोधी’’ है।
एक अन्य उपयोगकर्ता ने कहा कि वह इस क्लीप को देखकर ‘‘हैरान’’ है।

Source link

%d bloggers like this: