खेल

ISL 2018-19 : एटीके के खिलाफ मुकाबले में मुंबई सिटी की नजर प्लेऑफ में जगह बनाने पर



कोलकाता के विवेकानंद युवा भारती क्रीड़ांगन में शुक्रवार को इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के पांचवें सीजन के तहत मेजबान एटीके और मुंबई सिटी एफसी के बीच मुकाबला खेला जाएगा. इस मुकाबले को जीतकर मुंबई की टीम प्लेऑफ में जगह बनाना चाहेगी. मुंबई की टीम 16 मैचों से 27 अंक लेकर अभी चौथे स्थान पर है और अगर उसने एटीके को हरा दिया तो उसका प्लेऑफ में जाना तय हो जाएगा. एटीके के 21 अंक हैं और उसके खाते में दो मैच बचे हैं. यह टीम अगर मुंबई को हरा देती है और अगले मैच में भी जीत जाती है तो उसके प्लेऑफ में जाने की उम्मीदें बन सकती हैं.

एटीके के कोच स्टीव कोपेल मानते हैं कि क्वालीफाई करना काफी मुश्किल है, लेकिन नामुमकिन नहीं है. कोपेल ने कहा, ‘यह काफी कठिन है लेकिन यह संभव है. हम इस उम्मीद को साथ लेकर खेलेंगे. अगर हम यह मैच जीत गए तो हम मुंबई के करीब आ जाएंगे. यह फुटबॉल है, लिहाजा हमें प्रयास करना होगा.’

एफसी पुणे सिटी के साथ 2-2 का ड्रॉ खेलने के बाद एटीके आगे जीने की संभावनाओं पर कुठाराघात हुआ था. इसके बाद एफसी गोवा के हाथों 0-3 की हार ने उसकी उम्मीदों का दम लगभग तोड़ दिया था. अब कोपेल की टीम बाकी बचे दो मैचो को जीतकर उम्मीदों को नए सिरे से आक्सीजन देना होगा. लगातार दो जीत के बाद भी इस टीम को प्लेऑफ में जाना नसीब न हो, लेकिन अभी जो समीकरण बन रहे हैं, उसके आधार पर एटीके को प्रयास करना ही होगा. घर में हालांकि इस सीजन में एटीके का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा है. उसे एक ड्रॉ, तीन जीत और तीन हार नसीब हुई हैं. अब उसके दोनों मैच घर में हैं और ऐसे में उसे अपने हिस्से आई इस मनोवैज्ञानिक बढ़त का अधिक से अधिक फायदा उठाना होगा.

during match 75 of the Hero Indian Super League 2018 ( ISL ) between Mumbai City FC  and Northeast United FC  held at The Mumbai Football Arena in Mumbai, India on the 13th February 2019 Photo by: Faheem Hussain /SPORTZPICS for ISL

मुंबई के लिए समीकरण बेहद सरल हैं. उसे एक जीत के साथ प्लेऑफ की सीट मिल जाएगी लेकिन उसकी मौजूदा फॉर्म अच्छी नहीं है और इसी कारण उसकी जीत को लेकर संदेह उत्पन्न हो रहा है. जॉर्ज कोस्टा की टीम नौ मैचों से अजेय थी लेकिन अब वह लगातार तीन मैच हार चुकी है. कोस्टा ने कहा, ‘बीते तीन मैचों में हम वैसे नहीं खेले, जैसा हमें खेलना चाहिए था. हमारे खिलाड़ी चोटिल और निलंबित थे. इस कारण हमारा प्रदर्शन प्रभावित हुआ. हम काफी गलतियां कर रहे हैं लेकिन मैं अब भी मानता हूं कि अब मेरी टीम मजबूत होकर खेलेगी.’

एटीके से उलट मुंबई का प्लेऑफ में जाना उसके हाथ में है क्योंकि उसके पास अभी भी दो मैच बचे हुए हैं. उसका अंतिम लीग मैच पुणे सिटी से है, लेकिन आइलैंर्ड्स नाम से मशहूर यह टीम एटीके के खिलाफ तीन अंक हासिल करते हुए प्लेऑफ का टिकट कटा लेना चाहेगी, लेकिन इसके लिए उसे स्कोर करना होगा. इस टीम के साथ यह सच्चाई जुड़ी हुई है कि बीते तीन मैचो में उसने एक भी गोल नहीं किया है. एटीके की टीम इस बात पर खासतौर पर गौर कर रही होगी.

Source link

%d bloggers like this: