ज्योतिष

हर महीने सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है। जिसे संक्रांति कहा जाता है। इस महीने सूर्य के राशि परिवर्तन को तुला संक्रांति कहा जाएगा क्योंकि 17 अक्टूबर को सूर्य कन्या से तुला राशि में आ जाएगा। इस राशि में सूर्य नीच का हो जाता है।

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सूर्य को सभी ग्रहों में सबसे शक्तिशाली माना जाता है। जब भी सूर्य राशि परिवर्तन करते हैं इसका प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है। नवरात्रि शुरू होते ही, 17 अक्टूबर को सूर्य तुला राशि में प्रवेश करेंगे और 16 नवंबर तक इस राशि में रहेंगे। सूर्य का राशि परिवर्तन से कुछ राशियों के लिए मंगलदायी रहेगा तो कुछ राशियों को इससे उतर-चढ़ाव का सामना करना पड़ सकता है। सूर्य तुला में प्रवेश करेगा। तुला राशि में पहले से वक्री बुध भी रहेगा। इस कारण बुध-आदित्य योग बनेगा। सूर्य के तुला राशि में आने से राजनीतिक उठापटक, अनसोचे उलटफेर, आकस्मिक दुर्घटना की आशंका, व्यापार में तेजी आएगी और सोने-चांदी के भाव में बढ़ोत्तरी होगी ।

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि में माता की चौकी इस तरीके से रखेंगे, तो मिलेगा लाभ

पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि ज्योतिष में आत्मा, यश और राजसत्ता के कारक ग्रह भगवान सूर्य ग्यारह महीने बाद 17 अक्टूबर की सुबह 7 बजकर 3 मिनट पर अपनी नीचसंज्ञक राशि तुला में प्रवेश कर रहे हैं। इस राशि पर ये 16 नवंबर की सुबह 6 बजकर 55 मिनट तक गोचर करेंगे, उसके बाद वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएंगे। कोई भी ग्रह यदि वह जातक की जन्मकुंडली अथवा गोचर में अपनी नीच संज्ञक राशि में रहता है तो शुभ-अशुभ दोनों प्रकार के फल देता है इसलिए नीच संज्ञक राशि में बैठे या गोचर करने वाले ग्रहों का फलादेश बहुत गहनता से करना चाहिए। सिंह राशि के स्वामी सूर्य मेष राशि में उच्चराशिगत एवं तुला राशि में नीचराशिगत संज्ञक माने गए हैं।

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर महीने सूर्य एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करता है। जिसे संक्रांति कहा जाता है। इस महीने सूर्य के राशि परिवर्तन को तुला संक्रांति कहा जाएगा क्योंकि 17 अक्टूबर को सूर्य कन्या से तुला राशि में आ जाएगा। इस राशि में सूर्य नीच का हो जाता है। वहीं ये उसके शत्रु ग्रह शुक्र की भी राशि है। तुला राशि में सूर्य 16 नवंबर तक रहेगा। इस 1 महीने में सूर्य का शुभ और अशुभ असर सभी राशियों पर पड़ेगा। जिसके प्रभाव से कुछ लोगों के जीवन में अनचाहे बदलाव भी हो सकते हैं और कुछ लोगों के लिए अच्छा समय रहेगा। इस दिन से ही नवरात्रि का भी आरंभ हो रहा है। इस बार मलमास के चलते नवरात्रि एक माह देर से शुरू होगी। मलमास समाप्ति के बाद यह पहला ग्रह है जो राशि बदलेगा। जब भी सूर्य का राशि परिवर्तन होता है, उसे संक्रांति के रूप में जाना जाता है। तुला राशि में सूर्य 16 नवंबर तक रहेंगे। 

सूर्य का शुभ-अशुभ प्रभाव

सूर्य के शुभ प्रभाव से जॉब और बिजनेस में तरक्की के योग बनते हैं और लीडरशीप करने का मौका भी मिलता है। ज्योतिष में सूर्य को आत्माकारक ग्रह कहा गया है। इसके प्रभाव से आत्मविश्वास बढ़ता है। पिता, अधिकारी और शासकिय मामलों में सफलता भी सूर्य के शुभ प्रभाव से मिलती है। वहीं सूर्य का अशुभ प्रभाव असफलता देता है। जिसके कारण कामकाज में रुकावटें और परेशानियां बढ़ती हैं। धन हानि और स्थान परिवर्तन भी सूर्य के कारण होता है। सूर्य के अशुभ प्रभाव से स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां भी होती है। 

इसे भी पढ़ें: खिड़की बनाने से पूर्व जान लें वास्तु के ‘यह नियम’

सूर्य का गोचर शुभ 

वृष, मिथुन, धनु 

सूर्य का गोचर अशुभ

मेष, कर्क, कन्या, तुला, वृश्चिक, कुंभ, मीन 

सूर्य का गोचर सामान्य

सिंह, मकर  

आइए विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास से जानते हैं कि सूर्य का तुला राशि में प्रवेश करने से राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

मेष राशि 

मेष राशि वाले जातकों को सूर्य की राशि परिवर्तन की वजह से जीवन में बहुत से उतार-चढ़ाव देखने पड़ सकते हैं। किसी करीबी रिश्तेदार से मतभेद होने की संभावना है, जिससे आपके रिश्ते खराब होंगे। जीवनसाथी से बातचीत करते समय आपको अपने गुस्से पर काबू रखना होगा। व्यापार से जुड़े हुए लोगों को सामान्य फल की प्राप्ति होगी। स्वास्थ्य के लिहाज से यह समय कमजोर रहने वाला है। यदि आप साझेदारी में कोई व्यापार कर रहे हैं तो साझेदारों से मतभेद होने की संभावना बन रही है। आप अपने जरूरी कागजात संभाल कर रखें अन्यथा चोरी और गुम होने की संभावना बन रही है।

वृषभ राशि 

वृषभ राशि के जातकों के लिए सूर्य का गोचर अत्यंत शुभकारी है। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा और सदस्यों के बीच प्रेम बढ़ेगा। आर्थिक दृष्टि से भी यह समय शुभ रहेगा, व्यापार में लाभ हो सकता है। कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी लेकिन इसके साथ ही जिम्मेदारियाँ भी बढ़ेंगी। आमदनी के नए अवसर सामने आएँगे जिनसे भविष्य में लाभ होगा। छात्रों को भी पढ़ाई के क्षेत्र में सफलता हासिल होगी। 

मिथुन राशि

मिथुन राशि के जातकों के लिए शुभ समय की शुरुआत होने वाली है। सूर्य के गोचर से सभी पारिवारिक समस्याएँ समाप्त होंगी और पारिवारिक जीवन सुखमय बनेगा। समाज में मान-सम्मान और प्रतिष्ठा मिलेगी और सब आपकी बात मानेंगे। पैतृक संपत्ति की समस्या समाप्त होगी और व्यापर में लाभ होगा। भाई-बहन से सहयोग मिलेगा और आपसी प्रेम में वृद्धि होगी।

इसे भी पढ़ें: घर में पड़ी इन चीजों को हटा दें, नहीं तो होगा ‘वास्तु-दोष’

कर्क राशि 

कर्क राशि वाले जातकों के लिए सूर्य ग्रह का गोचर कठिन रहेगा। आपकी आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी। अचानक धन हानि होने की संभावना बन रही है, इसलिए पैसों का लेनदेन करने से बचें। व्यापार से जुड़े हुए लोग अपने व्यापार में कोई भी बदलाव मत कीजिए। माता की सेहत नाजुक रह सकती है, जिसके चलते आप काफी परेशान रहेंगे। प्रॉपर्टी से जुड़े हुए मामलों में आपको परेशानी का सामना करना पड़ेगा। वाहन प्रयोग में आप लापरवाही मत कीजिए। कामकाज का दबाव अधिक होने के कारण आपकी सेहत खराब हो सकती है।

सिंह राशि

सिंह राशि के जातकों को सूर्य के गोचर से शुभ फल प्राप्त होंगे। सिंह राशि के जातकों को कार्यक्षेत्र में सफलता मिलेगी और आर्थिक पक्ष मजबूत होगा। माता-पिता के साथ संबंध मजबूत होंगे और रुके हुए कार्य बनेंगे। प्रेम संबंधों में मधुरता आएगी और साथी के सहयोग से व्यापार में लाभ होगा। सिंह राशि के जातकों के लिए यात्रा के योग बन रहे हैं। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा और अटका हुआ काम भी बनेगा। 

कन्या राशि 

सूर्य का गोचर कन्या राशि वालों के लिए शुभ परिणाम लेकर आएगा। सरकारी सहयोग से रुके हुए कार्य पूरे होंगे। कन्या राशि के जातकों को पढ़ाई के क्षेत्र में सफलता प्राप्त होगी और नौकरी के अवसर सामने आएंगे। कार्यक्षेत्र में अधिकारियों का सहयोग मिलेगा और आमदनी में वृद्धि होगी। परिवार के सदस्यों के बीच संबंध मजबूत होंगे और कहीं बाहार घूमने जाने का प्लान बना सकते हैं। 

तुला राशि 

तुला राशि वाले जातकों के लिए सूर्य का गोचर अनुकूल नहीं रहेगा। व्यापार में आपको कठिन मेहनत करनी पड़ सकती है। मौसम परिवर्तन होने की वजह से आपके स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ेगा। आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव बनी रहेगी। आप अपनी फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। आपके आत्मविश्वास में कमी देखने को मिलेगी। घर-परिवार के किसी सदस्य से कहासुनी होने की संभावना बन रही है। आप किसी भी महत्वपूर्ण मामले में निर्णय ना लें। बच्चों की तरफ से परेशानियां उत्पन्न हो सकती हैं।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक राशि वाले जातकों के लिए सूर्य ग्रह का गोचर हानिकारक रहने वाला है। किसी निवेश में आपको भारी नुकसान होने की संभावना बन रही है, इसलिए आपको संभल कर रहना होगा। इस समय के दौरान आप कोई भी नया काम शुरू ना करें। वाहन प्रयोग में लापरवाही मत कीजिए। प्राइवेट नौकरी करने वाले लोगों का ट्रांसफर हो सकता है, जिससे आप का कामकाज प्रभावित होगा। किसी पुरानी बात को लेकर आप काफी चिंतित रहेंगे। कामकाज में ध्यान केंद्रित करना काफी कठिन रहेगा। विद्यार्थी वर्ग के लोगों को प्रतियोगी परीक्षा के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है। माता-पिता का पूरा सहयोग मिलेगा।

धनु राशि 

धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य का गोचर बहुत फलदायी साबित होगा। आर्थिक पक्ष मजबूत होगा और माता-पिता के साथ प्रेम बढ़ेगा। व्यापार में किसी बड़े-बुजुर्ग या पिता समान व्यक्ति के सहयोग रुके हुए कार्य पूरे होंगे। मित्रों के साथ संबंध अच्छा होगा और उनके साथ अच्छा समय व्यतीत कर सकते हैं। विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं, जो लोग विदेश में पढाई करना चाहते हैं उनकी इच्छा पूरी हो सकती है। 

मकर राशि 

सूर्य का गोचर मकर राशि के जातकों के लिए शुभ परिणाम लेकर आएगा। परिवार के सदस्यों के साथ संबंध मजबूत बनेंगे और पारिवारिक जीवन सुखमय होगा। कार्यक्षेत्र में मित्रों के सहयोग से सफलता प्राप्त होगी। जमीन या मकान खरीद सकते हैं। धन लाभ होने से आर्थिक स्थिति में सुधार होगा।

कुंभ राशि 

कुंभ राशि वाले जातकों के लिए सूर्य ग्रह का गोचर अच्छा फल देगा। धर्म-कर्म के कामों में रुचि बढ़ेगी। आपका भाग्य प्रबल रहेगा। पुराने कामकाज की योजना सफल हो सकती है। निजी जीवन में अच्छा खासा सुधार देखने को मिल सकता है। प्रेम जीवन में चल रही परेशानियां दूर होंगी। आप कोई नया व्यापार आरंभ कर सकते हैं, जिसका आपको अच्छा फायदा मिलने वाला है। मित्रों के साथ मिलना-जुलना रहेगा। प्रभावशाली लोगों से संपर्क स्थापित होंगे। आप अपने सभी कार्य बुद्धिमानी से पूरा करने वाले हैं। कोर्ट कचहरी के कामों में सफलता हासिल होगी।

मीन राशि 

मीन राशि वाले जातकों के लिए सूर्य ग्रह का गोचर जीवन में परेशानियां ला सकता है। आर्थिक रूप से आप काफी परेशान रहेंगे। कामकाज में बहुत सी बाधाएं उत्पन्न हो सकती है। नौकरी में परिवर्तन करने की योजना बना सकते हैं। आप किसी को भी पैसा उधार ना दें। पैसों के मामले में आपको अधिक सतर्क रहने की आवश्यकता है। शत्रु पक्ष से सक्रिय रहेंगे। यह आपको हानि पहुंचाने की कोशिश कर सकते हैं। आपको अपने गुस्से और वाणी पर नियंत्रण रखने की जरूरत है। लंबी दूरी की यात्रा पर जाने से बचना होगा।

सूर्य के उपाय

भगवान विष्णु की उपासना करें। सूर्य को अर्घ्य देना। रविवार का व्रत रखना। मुंह में मीठा डालकर ऊपर से पानी पीकर ही घर से निकलें। पिता और पिता के संबंधियों का सम्मान करें। लाल और केसरिया रंग के वस्त्र धारण करें। प्रातः सूर्योदय से पहले उठें और अपनी नग्न आँखों से उगते हुए सूरज का दर्शन करें। सूर्य देव की पूजा करें। भगवान राम की पूजा करें। आदित्य हृदय स्तोत्र का जाप करें।

– अनीष व्यास

भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक

Source link

%d bloggers like this: