मनोरंजन

लोकप्रिय तमिल अभिनेता विवेक का यहां शनिवार को एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 59 वर्ष के थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद उनका इलाज चल रहा था। एसआईएमएस अस्पताल के उपाध्यक्ष डॉ राजू शिवसामी ने एक बयान जारी कर बताया कि मशहूर कॉमेडियन विवेक का तड़के निधन हो गया।

चेन्नई। लोकप्रिय तमिल अभिनेता विवेक का यहां शनिवार को एक अस्पताल में निधन हो गया। वह 59 वर्ष के थे। दिल का दौरा पड़ने के बाद उनका इलाज चल रहा था।
एसआईएमएस अस्पताल के उपाध्यक्ष डॉ राजू शिवसामी ने एक बयान जारी कर बताया कि मशहूर कॉमेडियन विवेक का तड़के निधन हो गया।
उन्हें शुक्रवार को अस्पताल में भर्ती किया गया था और हालत बिगड़ने के बाद उन्हें ‘ईसीएमओ’ प्रणाली पर रखा गया था। अभिनेता को बृहस्पतिवार को कोविड-19 रोधी टीका दिया गया था।
अधिकारियों ने कहा था कि विवेक को हृदयाघात टीके के कारण नहीं हुआ था।  कार्डिएक अरेस्ट से पीड़ित होने के बाद विवेक की 17 अप्रैल 2021 को मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें: सिनेमाघर में रिलीज के बाद 23 अप्रैल को ओटीटी पर रिलीज होगी परिणीति की फिल्म ‘साइना’ 

कौन थे  कॉमेडियन विवेक ?

कॉमेडियन विवेक का पूरा नाम विवेकानंदन था  (19 November 1961  – 17 April 2021)। सिनेमा जगत में उनके मंच नाम विवेक से जाना जाता है। विवेक एक भारतीय फिल्म अभिनेता, हास्य अभिनेता, टेलीविजन व्यक्तित्व, पार्श्व गायक और तमिल फिल्म उद्योग में काम करने वाले सामाजिक कार्यकर्ता थे। उनका जन्म थुथुकुडी जिले के कोविलपट्टी में हुआ था।

इसे भी पढ़ें: आधी फिल्म की शूटिंग करने के बाद कार्तिक आर्यन ने छोड़ी करण जौहर की फिल्म! वजह है विवाद 

विवेक ने करियर में 220 फिल्मों में काम किया और खूब अवॉर्ड जीते

निर्देशक के. बालाचंदर द्वारा फिल्मों में  उन्हें लॉन्च किया गया था। उन्होंने फिल्मों में अपने प्रदर्शन, रन (2002), सामी (2003) और पेराजागान (2004) और 5 तमिलनाडु राज्य फिल्म के लिए साउथ फिल्मफेयर अवार्ड्स में सर्वश्रेष्ठ कॉमेडियन के लिए 3 फिल्मफेयर पुरस्कार जीते। फ़िल्मों के लिए सर्वश्रेष्ठ हास्य कलाकार के लिए पुरस्कार, अन्नारुग नान इरुंधल (1999), रन (2002) पार्थिबन कनवु (2003), अन्नियन (2005) और शिवाजी (2007)। उन्होंने 220 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया। 

 सरकार ने भी विवेक को समाजिक कार्यों के लिए  पद्म श्री से सम्मानित किया था

2009 में भारत सरकार ने विवेक को कला में उनके योगदान के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया। सत्यबामा विश्वविद्यालय ने अभिनेता विवेक को सिनेमा के माध्यम से समाज में उनके योगदान के लिए एक मानद डॉक्टरेट से सम्मानित किया है। एक टेलीविजन व्यक्तित्व के रूप में, विवेक ने कई  इवेंट की मेजबानी की और मीडिया हस्तियों का साक्षात्कार किया, विशेष रूप से ए पी जे अब्दुल कलाम। 

विवेक का संघर्ष का सफर 

चेन्नई में सचिवालय में काम करते हुए, विवेक ने अपने खाली समय में मद्रास ह्यूमर क्लब में भाग लिया, जहाँ लोग स्टैंड-अप कॉमेडी करते थे। उन्होंने आंदोलन को आगे बढ़ाने में मदद की और बाद में क्लब में अपने पैंटोमाइम्स के दौरान कई बार सर्वश्रेष्ठ मनोरंजन का पुरस्कार जीता। विवेक ने बाद में चेन्नई छोड़ दिया और मदुरै से वाणिज्य में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और सेमेस्टर ब्रेक के दौरान, वे क्लब में वापस लौट आए। ह्यूमर क्लब के संस्थापक पी. आर. गोविंदराजन ने उन्हें पहली बार फिल्म निर्देशक के. बालचंदर से मिलवाया और निर्देशक की फिल्मों के लिए पटकथा-लेखक के रूप में एक पेशेवर संबंध शुरू किया। 

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विवेक के निधन पर जताया शोक

प्रधानमंत्री  मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘जानेमाने अभिनेता विवेक के असामयिक निधन ने बहुत सारे लोगों को सदमा पहुंचाया है। अपने हास्य व बुद्धिमत्तापूर्ण संवाद अदायगी से उन्होंने लोगों का मनोरंजन किया। उनके जीवन व उनकी फिल्मों में पर्यावरण और समाज के लिए उनकी चिंता विदित है। उनके परिवार के सदस्यों, मित्रों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं।’’ विवेक को शुक्रवार को अस्पताल में भर्ती किया गया था और हालत बिगड़ने के बाद उन्हें ‘ईसीएमओ’ प्रणाली पर रखा गया था। 

 

Source link

%d bloggers like this: